Welcome back to My Blog Pradeeptomar.com : Advantages of Blogging
Advertisements
Advertisements

गुड़ के प्राकर्तिक फायदे - Importance or Health benefit of Molasses

गुड़ के प्राकर्तिक फायदे - Importance of "Molasses"

आज आपको गुड़ के महत्त्व के बारे में पता चलेगा .. सबसे पहले तो आपको पता होना चाहिए की गुड़ होता क्या है और ऐसे तैयार कैसे किया जाता है.

गुड़ बनाने का तरीका बहुत ही आसान है गन्ने के रस को कड़ाई में गर्म किया जाता है या शोधन किया जाता है, उस शोधन प्रक्रिया के दौरान गन्ने के रस से प्राप्त, गहरे भूरे रंग का सीरप, को जमाकर या पाक कर गुड़ तैयार किया जाता है. एक तरह से आप ये समझ सकते है की चीनी, गुड़ का फ़िल्टर किया गया रूप है पर दोनों का अलग अलग महत्त्व, मिठास और प्रयोग है.

गुड़ को हम भारत में अलग अलग नाम से जानते है जैसे; खांड, रांब, शीरा, बुरा, मिठाई आदि आदि. और अंग्रेजी में ऐसे  "Molasses" के नाम से जानते है.

गुड़ प्राकर्तिक रूप से किसी औषधि से काम नहीं है, बस रोजाना कितना लेना है और कैसे लेना है और कब लेना है आपको पता होना चाहिए. सबसे पहले आपको इसके फायदे जानने होंगे ...

सर्दी होने पर - सर्दी के दिनों में या सर्दी होने पर गुड़ का प्रयोग आपके लिए अमृत के समान होगा। इसकी तासीर गर्म होने के कारण यह सर्दी, जुकाम और खास तौर से कफ से आपको राहत देने में मदद करेगा। इसके लिए दूध या चाय में गुड़ का प्रयोग किया जा सकता है, और आप इसका काढ़ा भी बनाकर ले सकते हैं।
गुड़ को अदरक के साथ गर्म कर, इसे गुनगुना खाने से गले की खराश और जलन में राहत मिलती है। इससे आवाज भी काफी बेहतर हो जाती है।
जोड़ों में दर्द की समस्या होने पर गुड़ का अदरक के साथ प्रयोग काफी लाभदायक सिद्ध होता है। प्रतिदिन गुड़ के एक टुकड़े के साथ अदरक खाने से जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है।
त्वचा की सेहत के लिए भी गुड़ आपके लिए बहुत काम की चीज है। जी हां गुड़ रक्त से हानिकारक टॉक्सिन्स को बाहर कर, त्वचा की सफाई में मदद करता है, और रक्त संचार भी बेहतर करता है।
प्रतिदिन थोड़ा सा गुड़ खाने से मुंहासों की समस्या नहीं होती और त्वचा में चमक आती है। यह आपकी त्वचा की समस्याओं को आंतरिक रूप से ठीक करने में मदद करता है।
शरीर में आयरन की कमी होने पर गुड़ आपकी काफी मदद कर सकता है। गुड़ आयरन का एक अच्छा और सुलभ स्रोत है। एनिमिया के रोगियों के लिए भी गुड़ बेहद फायदेमंद होता है।
अगर आप बहुत अधिक थकान या कमजोरी महसूस कर रहे हैं, तब भी गुड़ आपकी मदद कर सकता है। क्योंकि यह आपके शरीर में उर्जा के स्तर को बढ़ा देता है, और आपको थकान महसूस नहीं होती।
शरीर के तापमान को नियंत्रित रखने में गुड़ सहायक होता है। इसमें एंटी एलर्जिक तत्व होते हैं, इसलिए अस्थमा होने पर भी मरीज़ों के  लिए इसका सेवन काफी फायदेमंद होता है।
पेट में गैस बनने की समस्या होने पर प्रतिदिन एक गिलास पानी या दूध के साथ गुड़ का सेवन करने से पेट में ठंडक होती है, और गैस भी नहीं बनती।
प्रतिदिन दोपहर व रात के खाने के बाद थोड़ा सा गुड़ मुंह में रखकर चूसने से पाचन भी बेहतर होता है, और गैस भी नहीं बनती। खाना खाने के बाद गुड़ का सेवन पाचन में सहयोग करता है।
गुड़ शरीर में रक्त की सफाई कर मेटाबॉलिज्म रेट को भी नियंत्रित करता है। इसकें अलावा गुड़ गले और फेफड़ों के संक्रमण के इलाज में फायदेमंद होता है।
अस्थमा के इलाज में गुड़ काफी लाभदायक होता है। गुड़ और काले तिल के लड्डू बनाकर खाने से सर्दी में अस्थमा की समस्या नहीं होती और शरीर में आवश्यक गर्मी बनी रहती है।
इसके अलावा सांस संबंधी रोगों के लिए पांच ग्राम गुड़ को समान मात्रा में सरसों के तेल में मिलाकर खाने से सांस संबंधी समस्याओं से छुटकारा मिलता है।
गला बैठ जाने और आवाज जकड़ जाने की स्थिति में पके हुए चावल में गुड़ मिलाकर खाने से बैठा हुआ गला ठीक होता है एवं आवाज भी खुल जाती है।
कान में दर्द होने पर भी गुड़ काफी लाभदायक होता है। गुड़ को घी के साथ मिलाकर खाने से कान में होने वाले दर्द की समस्या ये निजात मिलती है।
पीलिया हो जाने पर पांच ग्राम सोंठ में दस ग्राम गुड़ मिलाकर एक साथ खाने से काफी लाभ मिलता है। इसके अलावा जुकाम ज्यादा हो जाने पर गुड़ को पिघ्ालाकर उसकी पपड़ी बनाकर खाने से लाभ होता है।
महिलाओं को मासिकधर्म की समस्याओं में राहत देने के लिए भी गुड़ काफी फायदेमंद है। उन दिनों में गुड़ का सेवन करने से हर तरह की तकलीफ में राहत मिलेगी।
स्मरण शक्ति बढ़ाने में भी गुड़ बहुत फायदेमंद है। इसके नियमित सेवन से याददाश्त बढ़ती है और दिमाग कमजोर नहीं होता।
अगर आपको कम भूख लगती है,तो आपकी इस समस्या का इलाज गुड़ के पास है। गुड़ खाने से आपकी भूख खुलेगी, और पाचनक्रिया दुरूस्त होगी।
गु़ड़ एक अच्छा मूड बूस्ट है, यह आपके मूड को खुशनुमा बनाने में मदद करता है। इसके अलाव माइग्रेन की समस्या में भी गुड़ फायदा पहुंचाता है। प्रतिदिन गुड़ का सेवन करने से लाभ होता है।
खट्टी डकारें आने या पेट की अन्य  समस्या में गुड़ में काला नमक मिलाकर चाटने से लाभ होता है।  इसके अलावा यह तंत्रिका तंत्र को मजबूत करने में काफी सहायक होता है।
वजन कम करने के लिए भी गुड़ का प्रयोग किया जा सकता है। शरीर में जल के अवधारण को कम करके शरीर के वजन को नियंत्रित करता है।
वैसे तो गुड़ को गर्म मासीर का माना जाता है, लेकिन इसके पानी के साथ घोलकर पीने से यह शरीर में ठंडक प्रदान करता है, और गर्मी को नियंत्रित करता है।

गुड़ के प्राकर्तिक फायदे - Importance or Health benifit of Molasses

गुड़ के प्राकर्तिक फायदे - Importance or Health benifit of Molasses

गुड़ के प्राकर्तिक फायदे - Importance or Health benifit of Molasses



Share this:

Post a Comment

I am waiting for your suggestion / feedbacks, will reply you within 24-48 hours. :-)

Thanks for visit my Blog

 
Back To Top
Copyright © 2014 PradeepTomar : Inspire the bloggers. Designed by OddThemes