Sponsored Links

Follow by Email

Sponsored Links

शुरूआती तौर पर शेयर बाजार में Intraday में निवेश कैसे करें?

देखिये सबसे पहले आपको शेयर बाज़ार को एक बिज़नेस या धंधा समझना होगा, तभी आप शेयर बाजार में करियर बना पाएंगे. हालाँकि ये कोई नौकरी नहीं खुद का धंधा ही होता है.और इस धंधे को आपको अपनी आर्थिक स्थिति के हिसाब से ही देखना है, मतलब  अगर आपकी आर्थिक स्थिति मध्यम वर्ग के परिवार से भी नीचे है तो इसे आप सब्जी मंडी भी समझ सकते है, फिर आपको उसी हिसाब से पैसा इन्वेस्ट करना चाहिए , जो आपकी आर्थिक स्थिति से मिलान करे. लेकिन मान लो अगर आप इसे खेल समझते है तो ये खेल आपका खेल कर देगा. मतलब आपका धंधा ज्यादा दिन तक चलेगा नहीं. इसे हम नीचे समझाने की कोशिश करेंगे.

आज मेने इस ब्लॉग की पहले पेराग्राफ में ही सब्जी मंडी लिख दिया तो आपको आश्चर्य हो रहा होगा की शेयर मार्किट को मैंने सब्जी मंडी से कैसे तुलना कर दी. तो आप यहाँ शब्दों पर ध्यान न दे, क्युकी यहाँ में तुलना नहीं कर रहा बल्कि आपको बताने की कोशिश कर रहा हु की शुरुआत में कैसे बिज़नस या धंधा शेयर बाजार में किया जाए या सीखा जाए.

शेयर मार्केट को कैसे समझे और न्यूनतम राशि शेयर बाजार में निवेश करने के लिए क्या होनी चाहिए, How to understand the stock market and what the minimum amount should be to invest in the stock market  ?

पहली स्थिति को समझे :

सब्जी मंडी : ( गरीब आदमी या मध्यम वर्गीय लोगो का धंधा) :

सब्जी मंडी में हर औकात का आदमी होता है जैसे :

  • कुछ लोग 1000 रुपये की सब्जी लेकर उसे 1200 या 1500 में बेंचकर अपना लाभ कमा लेते है
  • कुछ लोग उसी 1000 रुपये की सब्जी, मंडी बंद होते होते उसी दाम पर बेंच देते है जिस पर खरीदा था.
  • कुछ लोग उसी 1000 रुपये की सब्जी मंडी बंद होते तक नहीं बेंच पाते, क्युकी वो सही दाम की प्रतीक्षा करते रह जाते है और अगले दिन वो सब्जी सढ जाती है. 
यहाँ आप देखेंगे की एक गरीब या मध्यम वर्गीय परिवार के मुखिया के लिए 1000 रुपये की हानि बहुत ही ज्यादा मायने रखती है, क्युकी अगर यही एक महीने तक करता रहा तो महीने की कुल हानि 30,000 प्रति माह भी हो सकती है.

शेयर बाज़ार : ( मध्यम वर्गीय या अमीर लोगो का धंधा) :

अब यही दृश्य शेयर मार्किट में देखते है:

  • (अगर बाजार अच्छा  है तो ) - कुछ लोग एक लाख रुपये के शेयर लेकर उसमे से (एक टारगेट प्राइस रखकर) दस हज़ार या पांच हज़ार का लाभ लेकर निकल आते है या समय से बेंच देते है.
  • (अगर बाजार धीमा है तो ) - कुछ लोग उसी एक लाख रुपये के शेयर लेकर  तो  उसमे (स्टॉप लोस लगाकर) हज़ार रुपये से लेकर पांच हज़ार तक का हानि लेकर निकल जाते है या बेंच देते है. या उसी दाम पर बेंच देते है जिस पर खरीदा था.
  • कुछ लोग उसी एक लाख रुपये के शेयर लेकर न तो स्टॉप लोस लगाते है और न ही टारगेट प्राइस रखते है, उनको लगता है वो खुद कर लेगे जो करना है. लेकिन फिर होता क्या है मार्किट बंद होते होते बहुत बड़ा लोस लेकर निकलते है.
क्या समझ आया - देखिये intraday या सब्जी मंडी में एक दिन मिलता है और वही आपको सौदा खरीदना भी और बेचना भी है. जिस तरह से सब्जी मंडी में मांग कम होने से धंधे में लोस हो सकता है वैसे ही शेयर बाजार भी ऊपर नीचे हो सकता है. आप सोच के रखे की बाज़ार नीचे गया तो इतना देना है और ऊपर गया तो इतना लेना है.

अब आप कहेंगे की यहाँ मेने लोगो को उनकी आर्थिक स्थिति के आधार पर क्यों बाँटा?
तो इसे ऐसे समझे -
गरीब आदमी
इस व्यक्ति की प्रति दिन की हानि अगर हज़ार से 500 रूपये है तो महीने की 25,000 से 30,000 की हानि उसे बर्दास्त करना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होगा.

मध्यम वर्गीय आदमी :
अगर यह व्यक्ति प्रतिदिन हज़ार रुपये से लेकर पांच ह़जार तक हानि उठाने की कोशिश करता तो उसे भी बर्दास्त करना मुश्किल है.

अमीर आदमी (जिसे आजकल कॉर्पोरेट पर्सन भी कहा जाता है) :
अगर यह व्यक्ति प्रतिदिन अपनी औकात से ज्यादा रिस्क लेता है तो ये भी ज्यादा दिन तक अमीर नहीं रहेगा.

क्या समझ आया - सबसे पहले शेयर बाज़ार में धंधा करने से पहले अपनी आर्थिक स्थिति देखे, उतना ही लालच रखे जितना आपमें हानि झेलने की क्षमता है. अर्थात अपना स्टॉप लोस उसी हिसाब से लगाये जितना आप को खोने में दुःख न हो. अगर महीने में 15,000 रुपये कमाना है तो 15,000 रुपये देने के लिए भी होने चाहिए.

यहाँ पर दो बातें निकलकर सामने आई :

A- जिस तरह से सब्जी मंडी में मांग कम होने से धंधे में लोस हो सकता है वैसे ही शेयर बाजार भी ऊपर नीचे हो सकता है. आप सोच के रखे की बाज़ार नीचे गया तो इतना देना है और ऊपर गया तो इतना लेना है. और ये आपका काम आपका ट्रेडिंग सिस्टम "जिसमे स्टॉप लोस और टारगेट प्राइस का आप्शन होता है" बेहतर डंग से करता है.
B- सबसे पहले शेयर बाज़ार में धंधा करने से पहले अपनी आर्थिक स्थिति देखे, उतना ही लालच रखे जितना आपमें हानि झेलने की क्षमता है. अर्थात अपना स्टॉप लोस उसी हिसाब से लगाये जितना आप को खोने में दुःख न हो. अगर महीने में 15,000 रुपये कमाना है तो 15,000 रुपये देने के लिए भी होने चाहिए.

तो फिर कैसे शुरुआत करे या शेयर मार्केट कैसे सीखे? Then how to start or learn how to share market?:

यहाँ शुरुआत मेने इसलिए लिखा क्युकी आप अगर पुराने है इस खेल में तो अब तक नुक्सान सह सह के सीख गये होगे की क्या करना है और क्या नहीं, और नहीं सीखे तो इस मार्किट से बाहर हो गए होंगे. तो अगर आप नए है फिर तो ये आपके लिए ताज़ा शुरुआत ही है और पुराने होकर या लोस खाकर बाहर हो गये तब भी आपके लिए एक नयी शुरुआत हो सकती है.

क्या करे मतलब शेयर कैसे खरीदते है ? How to initially invest in the intraday stock market?

आप जब भी शेयर मार्किट में कोई भी आर्डर डालते है तो जो ऊपर बाते निकलकर आई है उनका ध्यान रखे. और उन्ही को ध्यान में रखते हुए आप हमेशा intraday का आर्डर ब्रैकेट आर्डर के साथ ही डाले. ये फैसिलिटी आपको Zerodha के trading प्लेटफार्म और मोबाइल एप्लीकेशन में मिलता है. मार्किट में और भी ब्रोकर है आप उनसे पता कर सकते है की ये फैसिलिटी उनके प्लेटफार्म या एप्लीकेशन में है की नहीं. इस माध्यम से आप कमाएंगे भी लिमिट में और गवाएंगे भी लिमिट में.

तो चलिए आपको एक्सिस बैंक के शेयर के साथ एक उदाहरण देता हु तो शायद आपको कुछ समझ में आ जाये.


Qty : जितने शेयर आपको लेना है वो डाले.
Price : जिस दाम पर आपको खरीदना है, मान लोग 540.95 का दाम चल रहा है तो आप खरीदने के लिए 540 भी डाल सकते है,
Stop Loss : उतने  रुपये डाले जितने रुपये का प्रति शेयर में लोस लेना है अगर मार्किट या शेयर का दाम नीचे गया तो.
Target Price : उतने रुपये डाले जितने आप प्रति शेयर कमाना चाहते है पर ध्यान रहे टारगेट हिट भी होना चाहिए. अगर नहीं हिट हुआ तो कोई फायदा नहीं रहेगा आपकी इतनी मेहनत का.
BO : मतलब ब्रैकेट आर्डर अर्थात एक ही आर्डर में तीनो दाम होते है जैसे - खरीदने वाला दाम, नुक्सान लेने वाला दाम और फ़ायदा लेने वाला दाम.

Zerodha का ये फीचर मुझे बहुत ही अच्छा लगा उनके लिए जो अभी अभी शुरुआत करना चाहते है, क्युकी इसमें ज्यादातर  आपका Zerodha का सिस्टम देखता है. आपको शेयर खरीदना है और अपने हिसाब से वैल्यू देनी है की कितना नुक्सान उठाना है और कितना फायदा. फिर भी आपके मन में कोई प्रश्न हो तो कमेंट करे.

और हा शेयर करना बिलकुल न भूले.

और सबसे बड़ी बात याद रखे : जिस किसी भी दिन आप धंधा कर रहे है अगर नुक्सान हो जाये तो नुकसान लेकर और फायदा हो जाये तो फायदा लेकर सिस्टम को बंद कर दे. क्युकी ज्यादा लालच या नुक्सान की भरपाई करने की कोशिश , आपको और ज्यादा नुक्सान दे सकती है.



और अंत में वही जो सब बोलते है की : दी हुयी जानकारी सिर्फ education के लिए है,  शेयर बाज़ार का धंधा, बाज़ार के जोख़िमो के आधीन है, शेयर बाजार में धंधा करने से पहले ज्यादा से ज्यादा जानकारी या ट्रेनिंग अपने ब्रोकर से जरुर ले और बाजार की नियम व् शर्ते जरुर पढ़े.. मेरी जिम्मेदारी कही भी और कैसे भी नहीं है :-) अपना ध्यान रखे.





zerodha account opening documents,  online demat account opening






Tags शेयर बाजार में करियर, न्यूनतम राशि शेयर बाजार में निवेश करने के लिए, शेयर कैसे खरीदते है, शेयर मार्केट कैसे सीखे, शेयरों से लाभ कैसे कमायें, शेयर मार्केट को कैसे समझे, शेयर बाजार ताजा समाचार, शेयर खरीदने का तरीका, Career in the stock market, how to invest the minimum amount in the stock market, how to buy stock, how to buy stock market, how to earn profits from shares, understand the stock market, stock market latest news, how to buy stock

Share this:

Post a Comment

I am waiting for your suggestion / feedbacks, will reply you within 24-48 hours. :-)

Thanks for visit my Blog

Sponsored Links
 
Back To Top
Copyright © 2014 PradeepTomar : Mobile USSD Codes, Bank Balance Check Number.

Privacy Policy | Disclaimer | Terms of Service | Sitemap | Copyright Policy |