Whats New

पॉलिथीन पर प्रतिबंध - कुछ नया शुरू करें और हजारों कमाएं

Single Use Polythene banned - Start something new and earn thousands  - आत्मनिर्भर भारत

जैसा की आप जानते है की भारत सरकार ने अभी हाल ही में पॉलीथिन (50 माइक्रोन से कम के पॉलिथीन) और थर्माकोल से बने प्रोडक्ट पर पूरी तरह से प्रतिबन्ध लगा दिया है। जिन्हे सिंगल यूज़ प्लास्टिक कहा जाता है।  मतलब ऐसी प्लास्टिक जिसका इस्तेमाल सिर्फ एक बार होता है और बाद में फेक दिया जाता है।

नीचे दिए गए प्रोडक्ट्स (Single use Products) पर्यावरण में सबसे ज्यादा और आमतौर पर पाए जाते है जो एक बार इस्तेमाल करके फेक दिए जाते है , यही प्रोडक्ट पर्यावरण के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक साबित हुए है।

Here is the list of single-use plastic items:

सिगरेट के टुकड़े (cigarette butts)
प्लास्टिक की पीने की बोतलें (plastic drinking bottles)
प्लास्टिक की बोतल के ढक्कन (plastic bottle caps)
खाने के रैपर  (food wrappers)
प्लास्टिक किराने की थैलियां (plastic grocery bags)
प्लास्टिक के ढक्कन (plastic lids)
तिनके और डंठल  (straws and stirrers)
स्टायरोफोम और प्लास्टिक (Styrofoam and plastic)
प्लास्टिक कांटे और चाकू (plastic forks and knives)
थर्मोकोल की थाली (Tharmocol plats)
प्लास्टिक प्लेट   (Plastic plates)
प्लास्टिक ग्लास   (Plastic Glas)

इनका सबसे ज्यादा असर पॉलीथिन बैग, थर्माकोल की पत्तल, दोना या प्लेट, गिलास आदि पर सबसे ज्यादा होगा।  क्युकी ये आम आदमी की ज़िंदगी में बहुत ज्यादा इस्तेमाल होने लगे थे। अब इनके बंद होने से इनकी जगह पर कुछ न कुछ प्रोडक्ट चाहिए।  बस आपको इनकी जगह इस्तेमाल होने वाली चीज़ो का निर्माण करना है। बताते है कैसे।

पॉलीथिन की जगह पर -
पॉलीथिन (Single use Polythine) की जगह पर आप डिजाइनर पेपर बैग या पेपर कैरी बैक (Paper carry bags) का निर्माण शुरू कर सकते है। या आप गांव के लोगो के बीच जाकर वहाँ के हाथो से बने बैग जैसे कपड़ो के बैग, जूट के बैग आदि खरीद कर अपने पास के किराना स्टोर पर सप्लाई कर सकते है। आप चाहे तो इन्हे ऑनलाइन भी बेंच सकते है।

आजकल पेपर बैग का इस्‍तेमाल लगभग हर जगह हो रहा है, चाहे वो गारमेंट शॉप, बैकरी, शू और चप्‍पल शॉप, ग्रोसरी शॉप, बुक शॉप, स्‍वीट शॉप या फिर कोई और हो. अब कस्टमर्स भी पेपर बैग की ही डिमांड करते हैं. ऐसे समय में यदि आप पेपर बैग बनाने की यूनिट लगाते हैं तो यह फायदे का बिजनेस साबित हो सकता है.

थर्माकोल की थाली की जगह -
थर्माकोल की थाली (Thermocol Thali) की जगह आप पत्ते से बनी पत्तलो का व्यापार या निर्माण शुरू कर सकते है। आज भी गाँवो में इन्ही पत्तलो का उपयोग होता है। ये पत्तले अलग अलग साइज और डिज़ाइन में मिलती है। आपको बस इन्हे शहरो तक पहुंचना है। या उन दुकानों तक पहुंचना है जो थर्माकोल बेंचते है।

प्लास्टिक प्लेट या थर्माकोल की प्लेट की जगह - 
पत्तल की तरह पत्ते के दोने भी आते है जिन्हे आप प्लास्टिक प्लेट (plastic plate) या थर्माकोल की प्लेट ((Thermocol Plate) की जगह सप्लाई करके महीने में अच्छा मुनाफा कमा सकते है। कोशिश करे की व्यापार की जगह इनके बनाने का काम शुरू करे।

प्लास्टिक के गिलास की जगह -
प्लास्टिक के गिलास की जगह (Disposable Plastic Glass) पेपर के ग्लास बना सकते है, चाय और कॉफी के गिलास पेपर में पहले से ही बन रहे है क्युकी प्लास्टिक गर्म चाय या कॉफी में मिल जाती है। वैसे आप चाहे तो मिटटी के कुल्हड़ का भी इस्तेमाल कर सकते है, इससे गांव के लोगो को रोजगार मिलेगा.

चमच्च या कांटे -
चम्मच या कांटे (plastic spoon) के लिए आप लकड़ी का इस्तेमाल कर सकते है , लकड़ी की कलछी या बड़े चमचे बाजार में पहले से उपलब्ध है।

नीचे की जानकारी www.hindi.news18.com के सौजन्य से -

सरकार देगी 1 करोड़ का लोन: अगर आप पेपर बैग बनाने की यूनिट लगाना चाहते हैं तो सरकार आपको एक करोड़ रुपए तक का लोन दे सकती है. यह लोन आपको उद्यमी मित्र नाम की सरकारी योजना के तहत मिलता है.

कितने में शुरू होगी यूनिट: केंद्र सरकार की उद्यमी मित्र योजना के तहत, अगर आप अपनी यूनिट लगाने के लिए लैंड और बिल्डिंग परचेज करते हैं तो आपको लगभग 32 लाख रुपए इस पर खर्च करने होंगे.

ट्रेनिंग के लिए भी सपोर्ट करेगी सरकार: पेपर पैकेजिंग प्रोडक्‍ट्स के लिए इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ पैकेजिंग मुंबई और उनकी ब्रांच की ओर से ट्रेनिंग दी जाती है. इसी तरह की ट्रेनिंग नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ डिजाइन अहमदाबाद और उसकी ब्रांच द्वारा बैग और पाउच के डिजाइन के लिए दी जाती है. इसके अलावा आप उद्यमी मित्र की वेबसाइट www.udyamimitra.in पर हैंड होल्डिंग सर्विसेज, मेंटरिंग आदि के बारे में पूरी जानकारी ले सकते हैं.

No comments

I am waiting for your suggestion / feedbacks, will reply you within 24-48 hours. :-)

Thanks for visit my Blog