Welcome back to My Blog Pradeeptomar.com : Advantages of Blogging
Advertisements
Advertisements

भानगढ़: एक डरावनी कहानी - Top most haunted place of India

भानगढ़: एक डरावनी कहानी - Top  most haunted place of India

भानगढ़ का किला :
कहते है भानगढ़ किले का निर्माण १७ वी सदी (१३०६) के आस पास हुआ था, जहा २०० घरो की आवादी थी. भानगढ़ का किला जो की राजश्थान में स्थित है, ये महल भारत का नहीं बल्कि विश्व के गिने चुने डरावनी जगहों में भी आता है और भारत में डरावनी जगहों में ये नंबर एक पर बना हुआ है. स्थानीय लोगों का कहना है कि जब भी यहां मकान बनाया गया, उसकी छत गिर जाती है। आधिकारिक तौर पर यहां अंधेरा होने के बाद अंदर जाना मना है। लोगों का कहना है कि इस महल में रात में गया कोई भी व्यक्ति वापस नहीं आ पाया।

संक्षिप्त कहानी :  भानगड़ किला जो देखने में जितना शानदार है उसका अतीत उतना ही भयानक है। स्थानीय लोगो के अनुसार कहा और सुना जाता है की ३०० साल पहले ये जगह बहुत फली फूली हुयी थी. लेकिन इस भानगढ़ के किले में बहुत ही सुन्दर राजकुमारी रत्‍नावती  का निवास था, जिस पर उसी राज्य के तांत्रिक सिंघीया  की बुरी नज़र पड़ गयी थी. वो राजकुमारी को अपने वश में करना चाहता था उसने एक इत्र की बोतल पर काला जादू कर दिया जो राजकुमारी के वशीकरण के लिए किया था। राजकुमारी रत्‍नावती ने उस इत्र के बोतल को उठाया, लेकिन उसे वही पास के एक पत्‍थर पर पटक दिया। पत्‍थर पर पटकते ही वो बोतल टूट गया और सारा इत्र उस पत्‍थर पर बिखर गया। इसके बाद से ही वो पत्‍थर फिसलते हुए उस तांत्रिक सिंघीया के पीछे चल पड़ा और तांत्रिक को कुलद दिया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी। मरने से पहले तांत्रिक ने शाप दिया कि इस किले में रहने वालें सभी लोग जल्‍द ही मर जायेंगे और वो दोबारा जन्‍म नहीं ले सकेंगे और ताउम्र उनकी आत्‍माएं इस किले में भटकती रहेंगी।
संयोग से उसके एक महीने बाद ही पड़ौसी राज्य अजबगढ़ से लड़ाई में राजकुमारी सहित सारे भानगढ़ वासी मारे जाते है और भानगढ़  वीरान हो जाता है। तब से वीरान हुआ भानगढ आज तक वीरान है और कहते है कि उस लड़ाई में मारे गए लोगो के भूत आज भी रात को भानगढ़ के किले में भटकते है।क्योकि तांत्रिक के श्राप के कारण उन सब कि मुक्ति नहीं हो पाई थी।

फिलहाल इस किले की देख रेख भारत सरकार द्वारा की जाती है। किले के चारों तरफ आर्कियोंलाजिकल सर्वे आफ इंडिया (एएसआई) की टीम मौजूद रहती हैं। एएसआई ने सख्‍त हिदायत दे रखा है कि सूर्यास्‍त के बाद इस इलाके किसी भी व्‍यक्ति के रूकने के लिए मनाही है।  गौर करने वाली बात है जहाँ पुरात्तव विभाग ने हर संरक्षित क्षेत्र में अपने ऑफिस बनवाये है वहीँ इस किले के संरक्षण के लिए पुरातत्व विभाग ने अपना ऑफिस भानगढ़ से दूर बनाया है।

भानगढ़ का इतिहास (The History Of Bhangarh Fort) :-
भानगढ़ क़िले को आमेर के राजा भगवंत दास ने 1573  में बनवाया था। भानगढ़ के बसने के बाद लगभग 300 वर्षों तक यह आबाद रहा।  मुग़ल शहंशाह अकबर के नवरत्नों में शामिल और भगवंत दास के छोटे बेटे व अम्बर(आमेर ) के महान मुगल सेनापति, मानसिंह के छोटे भाई राजा माधो सिंह ने बाद में (1613) इसे अपनी रिहाइश बना लिया।  माधौसिंह के बाद उसका पुत्र छत्र सिंह गद्दी पर बैठा।  विक्रम संवत 1722 में इसी वंश के हरिसिंह ने गद्दी संभाली।इसके साथ ही भानगढ की चमक कम होने लगी। छत्र सिंह के बेटे अजब सिह ने समीप ही अजबगढ़ बनवाया और वहीं रहने लगा। यह समय औरंगजेब के शासन का था। औरंगजेब कट्टर पंथी मुसलमान था। उसने अपने बाप को नहीं छोड़ा तो इन्हे कहाँ छोड़ता। उसके दबाव में आकर हरिसिंह के दो बेटे मुसलमान हो गए, जिन्हें मोहम्मद कुलीज एवं मोहम्मद दहलीज के नाम से जाना गया। इन दोनों भाईयों के मुसलमान बनने एवं औरंगजेब की शासन पर पकड़ ढीली होने पर जयपुर के महाराजा सवाई जय सिंह ने इन्हे मारकर भानगढ़ पर कब्जा कर लिया तथा माधो सिंह के वंशजों को गद्दी दे दी।

Top  most haunted places of India bhangarh

bhangarh fort street

किलें में सूर्यास्ता के बाद प्रवेश निषेध (Entrance Prohibited after Sunset) :-

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा खुदाई से इस बात के पर्याप्त सबूत मिले हैं कि यह शहर एक प्राचीन ऐतिहासिक स्थल है। फिलहाल इस किले की देख रेख भारत सरकार द्वारा की जाती है। किले के चारों तरफ आर्कियोंलाजिकल सर्वे आफ इंडिया (एएसआई) की टीम मौजूद रहती हैं। एएसआई ने सख्तक हिदायत दे रखी  है कि सूर्यास्ता के बाद इस इलाके में किसी भी व्यतक्ति के रूकने के लिए मनाही है।

bhangarh fort signboard

Tags: bhangarh, bhangarh fort haunted stories in hindi, bhangarh story in hindi, bhangarh incidents, bhangarh fort incidents, bhangarh ghosts, bhangarh fort haunted stories, bhangarh experiences, bhangarh fort at night

Share this:

Post a Comment

I am waiting for your suggestion / feedbacks, will reply you within 24-48 hours. :-)

Thanks for visit my Blog

 
Back To Top
Copyright © 2014 PradeepTomar : Inspire the bloggers. Designed by OddThemes